Skip to content

Swatantrata Diwas Hindi Essay

skip to main | skip to sidebar

Short Essay on 'Independence Day: 15 August' of India in Hindi | 'Swatantrata Diwas' par Nibandh (125 Words)

Short Essay on 'Independence Day: 15 August' of India in Hindi | 'Swatantrata Diwas' par Nibandh (125 Words)
स्वतंत्रता दिवस

भारत में 'स्वतंत्रता दिवस' 15 अगस्त को मनाया जाता है। 15 अगस्त, 1947 को भारत ने ब्रिटिश साम्राज्य से मुक्त होकर स्वतंत्रता प्राप्त की थी। इस दिन को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस के दिन प्रधानमंत्री लाल किला, दिल्ली में झंडा फहराते हैं। झंडे को सलामी दी जाती है और राष्ट्रीय गीत एवं धुन गाई जाती है। प्रधानमंत्री राष्ट्र के नाम सन्देश देते हैं और देशभक्तों को याद किया जाता है।

देश के सभी राज्यों की राजधानियों में झंडा रोहण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। सभी सरकारी, अर्द्ध-सरकारी, निगम एवं प्रशासनिक कार्यालयों में झंडारोहण का कार्यक्रम होता है। स्कूल एवं कालेजों में विभिन्न कार्यक्रम, खेल-कूद एवं प्रतियोगिताओं का आयोजन भी होता है तथा विजेताओं को सम्मानित किया जाता है।
 

15th August Hindi Essay
Hindi Essay On Indian Independence Day

Swatantrata Diwas Nibandh

15 अगस्त 1947 का दिन भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया है I इस दिन ही हमारा देश अंग्रेजो की दासता से आजाद हुआ I इस पर्व को सभी धर्मों के लोग ख़ुशी ख़ुशी मनाते हैं I 15 अगस्त के दिन हर साल हमारे देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा फहराते हैं I इस आजादी के लिए देश के बहुत लोगों ने बलिदान दिया I भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु, चंदरशेखर आजाद, सुभाष चन्द्र बोस, लाला लाजपत राय आदि कितने ही क्रांतिकारियों ने अपने प्राणों की आहुति दी आजादी के लिए I

 

महात्मा गांधी ने देश की आजादी में महत्वपूर्ण योगदान दिया I आजादी के लिए इन लोगों के अंग्रेजों के बहुत जुल्म सहे I नौजवान आजादी के लिए हँसते हँसते फांसी पर चढ़ गये I हम इन लोगों के महान बलिदान को कभी नहीं भुला सकते हैं I

 

देश को आजादी तो मिली पर भारत माता के दो टुकड़े हो गये I भारत से अलग होकर पाकिस्तान नाम का नया देश बना I साम्प्रदायिकता की आग में लाखों लोग जल गये I आजादी के दीवानों ने अपनी जान की कीमत देकर हम लोगों के लिए आजादी हासिल की I इसलिए लोग 15 अगस्त के दिन को बहुत हर्षोउलास के साथ मनाते हैं और शहीदों को याद करके उनको नमन करते हैं I आज हम चाहे कितनी भी तरक्की कर लें पर हम कभी भारत और आजादी के लिए हुए शहीदों का कर्ज कभी नहीं उतार सकते I